Pages

Sunday, 8 May 2016

मेरी माँ…

मेरे दु:ख में आँसू अपने,
ख़ूब बहाती मेरी माँ।
मैं खुश हूँ तो, मुझसे ज्यादा,
खुश हो जाती मेरी  माँ॥

सच्चाई का हर पल मुझको,
पाठ पढ़ाती मेरी माँ।
गलती हो तो पास बिठाकर,
है समझाती मेरी माँ॥

मुझे देख कर पल-पल मेरी,
चिंता करती मेरी माँ।
दूर शहर में मुझे भेज कर,
मन में डरती मेरी माँ॥



गृह-कर्मों में दक्ष है वह,
औ हरा समय को देती है।
वह अपना सर्वस्व लुटाकर,
वापस कुछ न लेती है॥

हँसती मुझे हँसाने को,
पर चिंता करके रोती है।
हर रात बिस्तर पर जा कर,
मुझे याद कर सोती है॥



कभी बुखार हो मुझको तो,
वह रात-रात भर जगती है।
भूख-प्यास में खाना खाया,
कह कर मुझको ठगती है॥

खुद को परेशानी हो कितनी,
पर चुप रहती मेरी माँ।
पूरे दिन का काम ख़त्म कर,
उफ़! न कहती मेरी माँ॥




पर उस माँ का वर्णन पूरा,
कैसे अब यह ‘भोर’ करे।
वश चले धरा पर, चीख़-चीख़ कर,
व्याख़्यान चहुँ ओर करे॥

किस्मत ग़र वह लिखती,
केवल खुशियाँ लिखती मेरी माँ।
दु:ख बचता तो स्वयं छोड़ कर,
देती किसको मेरी माँ॥

दुनिया भर भगवान को माने,
मैं जानूँ बस मेरी माँ।
पूजूँ उस भगवान से पहले,
पूजे जिसको मेरी माँ॥




©प्रभात सिंह राणा ‘भोर’


wallpapers- 1,2,3

Sunday, 1 May 2016

हँसाने वाले…

हर दिन हर किसी को,
मुस्कान बाँटते हैं।
हँसते हैं ख़ुद अपना,
दर्द ढ़ाँपते हैं॥

तन्हाईयों में आकर,
देखना किसी कोने में।
कैसे रोते हैं,
सबको हँसाने वाले॥

हर पल हर किसी को,
सताया करते हैं।
खुशियाँ बाँटते हैं, ख़ुद
मुस्कुराया करते हैं॥

धीमे से पूछना कभी,
जब अकेले हों।
ख़ुद परेशाँ हैं,
सबको सताने वाले॥




ख़ुद कहकहा बन कर,
हँसाते हैं सबको।
बिगड़े कोई बात,
समझाते हैं सबको॥

कुछ पल हमदर्दी के,
उनको भी चाहिए।
ख़ुद से रूठे हैं,
सबको मनाने वाले॥

वो चाहते हैं कोई उनकी,
मुस्कुराहट जान ले।
सराबोर नीर में,
आँसू पहचान ले॥

‘भोर’ की शुरुआत से,
देर साँझ, निशा तक।
छिप के रोते हैं,
ख़ूब मुस्कुराने वाले॥




©प्रभात सिंह राणा ‘भोर’